पंच क्रांति के जरिए प्रदेश सरकार करेगी समाज के सभी वर्गों का कल्याण – मुख्यमंत्री श्री चौहान

  

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने ग्वालियर में “अम्बेडकर महाकुंभ” में कहा कि इस सुअवसर पर हम प्रदेश के विकास और समाज के सभी वर्गों के कल्याण के लिये “पंच क्रांति” की बात करने आए हैं। पंच क्रांति में शिक्षा की क्रांति, रोजगार की क्रांति, आवास अर्थात रहने के लिये जमीन की क्रांति एवं सभी वर्गों के सम्मान की क्रांति शामिल है। उन्होंने ग्वालियर में बाबा साहब अम्बेडकर धाम और संस्थान स्थापित करने के लिये स्थल उपलब्ध कराने और समाज के सभी वर्गों के कल्याण के उद्देश्य से समस्त पिछड़ी उप जातियों के अलग-अलग बोर्ड बनाने की घोषणाएँ कीं।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि बाबा साहब ने कहा था कि शिक्षित रहोगे तो आगे बढ़ोगे। इसी भाव के साथ प्रदेश सरकार ने शिक्षा की क्रांति के तहत श्रमोदय विद्यालय और ज्ञानोदय जैसे विद्यालय खोले हैं। छात्रावासों की स्थापना की है। साथ ही यदि किसी बच्चे को छात्रावास उपलब्ध नहीं हो पाता तो कमरे का किराया भी सरकार भर रही है। मेडिकल और इंजीनियरिंग जैसे पाठ्यक्रमों और विदेश में पढ़ाई की फीस भी सरकार भर रही है। प्रदेश में अब हिंदी में भी मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढ़ाई शुरू की गई है। कायाकल्प अभियान में छात्रावासों की व्यवस्था बेहतर की जा रही है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में दूसरी क्रांति रोजगार की क्रांति के रूप में चल रही है। प्रदेश में एक लाख 24 हजार पदों पर शासकीय भर्ती की प्रक्रिया चल रही है। अनुसूचित जाति वर्ग के युवाओं को संत रविदास स्व-रोजगार योजना में एक लाख से 50 लाख एवं डॉ. भीमराव अम्बेडकर आर्थिक कल्याण योजना में 10 हजार से एक लाख रूपए तक का ऋण-अनुदान उपलब्ध करा रही है। पढ़े-लिखे बच्चों को अलग-अलग औद्योगिक सेक्टर का काम सिखाने के साथ-साथ हर बच्चे को 8 हजार रूपए प्रतिमाह मानदेय भी दे रही है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में तीसरी क्रांति आवास अर्थात रहने के लिये जमीन की क्रांति है। गरीब व्यक्ति के लिए रहने के लिए भूमि और आवास की व्यवस्था की जा रही है। मुख्यमंत्री आवासीय भू अधिकार योजना में सरकार द्वारा हर गरीब परिवार को रहने के लिए भूखंड का पट्टा दिया जा रहा है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में बहनों का सशक्तिकरण चौथी क्रांति है। लाड़ली लक्ष्मी योजना, मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना, संबल योजना, पंचायत निर्वाचन में महिलाओं को आरक्षण, शिक्षकों और पुलिस की भर्ती में आरक्षण, रजिस्ट्री स्टांप शुल्क में छूट और अब लाड़ली बहना योजना से बहनों की जिंदगी में व्यापक बदलाव आया है। समाज में उनका सम्मान बढ़ा है और वे सशक्त और आत्मनिर्भर हो रही है। लाड़ली बहना योजना में आगामी 10 जून से बहनों के खाते में एक हजार रूपए पहुँचाए जाएंगे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में पाँचवीं क्रांति सब के सम्मान की क्रांति है। प्रदेश में समाज के हर वर्ग के सम्मान और प्रगति के लिए सामाजिक क्रांति चल रही है। उन्होंने घोषणा की कि समाज के सभी वर्गों के कल्याण के लिये समस्त पिछड़ी उप जातियों के बोर्ड बनाए जायेंगे। हर बोर्ड में अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और सदस्य नियुक्त होंगे, जो अपने-अपने समाज की समस्याओं का पता लगाकर बतायेंगे। इस आधार पर सभी वर्गों के कल्याण के लिये नई योजनाएँ बनाई जायेंगी। उन्होंने कहा कि सभी वर्गों का कल्याण और सामाजिक समरसता हमारे विकास का मूल मंत्र है।

बाबा साहब के जीवन से जुड़े स्थानों का पंच-तीर्थ के रूप में विकास

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश सरकार बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर के जन्म-स्थान, शिक्षा-स्थली, संविधान निर्माण-स्थल, दीक्षा-स्थल और अंतिम संस्कार स्थल को पंच-तीर्थ के रूप में विकसित कर रही है। साथ ही इन सभी को मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना में भी शामिल किया गया है। महू में बाबा साहब के अनुयायियों को सुविधाएँ देने के लिए साढ़े तीन एकड़ भूमि पर धर्मशाला का निर्माण कराया जाएगा। इन सब कार्यों का उद्देश्य है कि हम बाबा साहब के जीवन और जन-कल्याण के कार्यों को याद रखें और उनके बताए आदर्शों पर चलकर अपने जीवन को धन्य करें।

100 करोड़ की लागत से संत रविदास जी के भव्य मंदिर का होगा निर्माण

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने सागर में 100 करोड़ रुपए की लागत से संत रविदास मंदिर बनाने का निर्णय लिया है। मंदिर में संत शिरोमणि रविदास के जीवन चरित्र को रेखांकित किया जाएगा, जिससे हम सभी प्रेरणा प्राप्त कर सकें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आह्वान किया कि संत रविदास जी के मंदिर के निर्माण के लिये हर गाँव में ईंट का पूजन करें और यात्राएँ निकालकर इन ईंटों को सागर में मंदिर स्थल पर भेजें।

प्रदेश सरकार अब 8 लाख की आय वाले परिवारों के बच्चों की भी भरेगी फीस

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने अम्बेडकर महाकुंभ में कहा कि आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के बच्चों की मेडिकल, इंजीनियरिंग,



कानून एवं आईआईएम जैसी उच्च शिक्षा की फीस सरकार भर रही है। पहले परिवार की अधिकतम वार्षिक आय की सीमा को 6 लाख रूपए से बढ़ाकर 8 लाख रूपए कर दिया गया है।

औद्योगिक क्षेत्रों में 20 प्रतिशत जमीन अनुसूचित जाति वर्ग के उद्यमियों के लिये

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश सरकार ने अपनी औद्योगिक नीति के तहत औद्योगिक क्षेत्रों की 20 प्रतिशत भूमि अनुसूचित जाति वर्ग के उद्यमियों को उद्योग लगाने के लिए आरक्षित की है।

अमेरिका से मुख्यमंत्री श्री चौहान के प्रति अंजलि ने जताया वर्चुअल आभार

प्रदेश सरकार द्वारा विदेश मे मास्टर ऑफ साईंस की पढ़ाई के लिये छात्रवृत्ति के रूप में उपलब्ध कराई गई 77 लाख रूपए की आर्थिक मदद की बदौलत अमेरिका में प्रतिष्ठित पद पर नौकरी कर रहीं ग्वालियर निवासी अनुसूचित जाति की छात्रा कु. अंजलि गेहलोत ने वर्चुअल रूप से अम्बेडकर महाकुंभ में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के प्रति आभार जताया। कु. अंजलि अमेरिका में केटर पिल्लर कंपनी में 1.20 करोड़ रूपए के पैकेज पर कार्यरत हैं। इसी तरह पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति से ग्वायिलर के जी आर मेडीकल कॉलेज में अध्ययनरत एमबीबीएस द्वितीय वर्ष के छात्र श्री सौरभ चौरसिया ने भी मंच से मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के प्रति आभार व्यक्त किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अनुसूचित जाति के छात्र श्री चौरसिया को अपने पास बुलाकर शुभकामनायें दीं। प्रदेश सरकार हर साल सौरभ चौरसिया के एक लाख से अधिक रूपए फीस के रूप में भर रही है।

केन्द्रीय कृषि एवं किसान-कल्याण मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा है कि बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर के विचार आज भी प्रासंगिक हैं और सदियों तक बने रहेंगे। बाबा साहेब ने भारत को संविधान दिया है। केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर ने बाबा साहेब के विचारों को आगे बढ़ाने ग्वालियर में “अंबेडकर महाकुंभ” करने के लिये मुख्यमंत्री श्री चौहान के प्रति आभार जताया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बाबा साहेब के जन्म से लेकर सम्पूर्ण जीवन से जुड़े पाँच स्थान को मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना में शामिल करने की सराहनीय पहल की है। श्री तोमर ने कहा कि देश में सभी को सामाजिक न्याय मिले, इस भाव के साथ प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री श्री चौहान अनुसूचित जाति सहित समाज के सभी वर्गों के कल्याण के लिये काम कर रही है।

केन्द्रीय नागरिक उड्डयन एवं इस्पात मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर ने ऐसा संविधान बनाया, जिससे विश्व में लोकतंत्र की जननी के रूप में भारत की पहचान स्थापित हुई। संविधान की बदौलत ही एक ओर भारत आर्थिक शक्ति के रूप में और दूसरी ओर आध्यात्मिक शक्ति के रूप में उभर रहा है। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब ने संविधान के माध्यम से अनुसूचित जाति एवं जनजाति वर्ग ही नहीं महिलाओं को भी हक दिलाया। श्री सिंधिया ने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव पर सभी संकल्प लें कि बाबा साहेब द्वारा दिखाए गए मार्ग पर चल कर विकसित मध्यप्रदेश एवं भारत का निर्माण करेंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी एवं मुख्यमंत्री श्री चौहान के नेतृत्व में केन्द्र एवं राज्य सरकार ने केदारनाथ, बद्रीनाथ, उज्जैन आदि तीर्थ-स्थलों की तरह बाबा साहेब की जन्म-स्थली महू को भी तीर्थ के रूप में विकसित किया है। श्री सिंधिया ने राज्य सरकार द्वारा अनुसूचित जाति के कल्याण के लिये चलाई जा रही योजनाओं का जिक्र भी किया।

सांसद श्री वी. डी. शर्मा ने कहा कि बाबा साहेब ने संविधान के जरिए देश को एक सूत्र में बांधने का काम किया। संविधान के इसी भाव के साथ प्रधानमंत्री श्री मोदी “सबका साथ-सबका विकास” की अवधारणा पर काम कर देश की तरक्की के लिये जुटे हैं। खुशी की बात है कि राज्य सरकार ने बाबा साहेब के जीवन से जुड़े 5 स्थानों को मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना में शामिल किया है।

जिले के प्रभारी एवं जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने कहा कि प्रदेश सरकार बाबा साहेब डॉ. अंबेडकर द्वारा बताए मार्ग पर चल कर अनुसूचित जाति सहित समाज के सभी वर्गों के कल्याण का काम कर रही है। अनुसूचित जाति एवं आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के बच्चों की पढ़ाई की फीस भरने के साथ सरकार 2 हजार से अधिक छात्रावास संचालित कर रही है।

अनुसूचित जाति कल्याण एवं जनजातीय कार्य मंत्री श्रीमती मीना सिंह ने स्वागत उदबोधन में राज्य सरकार की अनुसूचित जाति वर्ग के कल्याण के लिये संचालित योजनाओं को रेखांकित किया। जिला पंचायत ग्वालियर की अध्यक्ष श्रीमती दुर्गेश कुँवर सिंह जाटव ने आभार माना। उन्होंने ग्वालियर में बाबा साहेब के नाम से संस्थान स्थापित करने के लिये जगह देने की घोषणा करने के लिये मुख्यमंत्री श्री चौहान के प्रति आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम में सांसद श्री विवेक नारायण शेजवलकर, अनुसूचित जाति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री श्री लाल सिंह आर्य और अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्री केशव सिंह जाटव ने भी संबोधित किया।

विकास कार्यों का लोकार्पण, शिलान्यास एवं मित्र पोर्टल का विमोचन

मुख्यमंत्री श्री चौहान और अन्य अतिथियों ने आयोजन स्थल पर बाबा साहेब के जीवन पर केन्द्रित चित्र गैलरी एवं प्रदर्शनी का अवलोकन किया। संतों का सम्मान, बाबा साहेब के चित्र पर माल्यार्पण, दीप प्रज्ज्वलन एवं कन्या-पूजन के साथ कार्यक्रम का शुभारंभ किया। साथ ही सिंगल क्लिक से ग्वालियर सहित प्रदेश के विभिन्न जिलों के लगभग 61 करोड़ 43 लाख रूपए लागत के बालक एवं बालिका छात्रावास भवनों का लोकार्पण एवं भूमि-पूजन भी किया गया। मुख्यमंत्री ने अनुसूचित जाति एवं जनजातीय वर्ग के छात्र-छात्राओं की समस्या निवारण के लिये “मित्र पोर्टल” का विमोचन सहित पोस्ट मेट्रिक छात्रवृत्ति योजना, संत रविदास स्व-रोजगार योजना एवं मुख्यमंत्री अनुसूचित जाति विशेष परियोजना में हितग्राहियों को हितलाभ वितरित भी किये।

वित्त मंत्री श्री जगदीश देवड़ा, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री महेन्द्र सिंह सिसौदिया, ऊर्जा मंत्री श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, सहकारिता मंत्री श्री अरविंद सिंह भदौरिया तथा उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री भारत सिंह कुशवाह, राज्य मंत्री श्री ओपीएस भदौरिया, श्री बृजेन्द्र सिंह यादव और श्री सुरेश धाकड़ सहित राज्य सरकार के अन्य मंत्रीगण, जन-प्रतिनिधि सहित बड़ी संख्या में बहनें और नागरिक मौजूद रहे।

Leave a comment

आमिर खान के बेटे जुनैद खान की फिल्म “महाराज” ओटीटी पर 14 जून को रिलीज होगी खूंखार लुक के साथ हुई Bajaj Pulsar NS400 लांच, सिर्फ इतने प्राइस में बनाएं अपना कियारा आडवाणी की चमकी किस्मत हाथ लगी सलमान खान की अपकमिंग फिल्म सिकंदर वेलकम टू द जंगल में इन स्टार की हुई एंट्री करेंगे फिल्म में धमाल The Great Indian Kapil Show: कपिल के शो में विक्की और सनी कौशल ने खोली एक दूसरे की पोल, हंस हंसकर लोट पोट हुए लोग